संदेश। A Poem on News

 संदेश 


तेरे बारेमें कहना क्या कहना क्या

कामहै तेरा जाकर बोलना 

कुछ हुआहै या होने वालाहै

 अच्छा या बुरा

 किसीके जिंदगी में!

संदेश। A Poem on News


पर, दूसरा और एक संदेश है

जो ना औच्छा, ना बुरा होता है,

 जिसका काम है सिर्फ आतंक फैलाना

 पर बादमें बहुत खुशी देताहै!

पहले मानसिक दबाव बराताहै

 यह देखनेकेलिए,

 कि तुम कितना काबिलहो,

 झेलने उतर-चढ़ाव इस जिंदगीमें!


भेजनेवालेकाभी मकसद एक नहीं,

कुछ अच्छे, तो कुछ बोलाभी नहीं 

वह देखतेहैं तुम असली या नकली!

तुम्हें सिर्फ सतर्क रहनाहै 

काम करनाहै वरतके सावधानी!


परिये अगले कविता (रुपिया)

परिये पिछले कविता (बीमारी)




Comments

Popular posts from this blog

ফেয়ারওয়েল কবিতা। Farewell - A Poem

ওয়াল ম্যাগাজিন - একটি কবিতা। Wall Magazine - A Poem

অভিভাবক - একটি কবিতা। Guardian - A Poem

Out Of Cocoon - A Short Story

তুমি এসেছো বলে - একটি কবিতা | As You Have Come - A Poem

বেতন - একটি কবিতা। Salary - A Poem

মা বোল্লাকালী - একটি কবিতা। Ma Bollakali - A Poem.